महक मेडम की गांड़ फाड़ दी

Mehak tore madam's ass

महक मेडम की गांड़ फाड़ दी
महक मेडम की गांड़ फाड़ दी

सभी चूत की रानियों और लंड के महाराजाओ को मेरा प्रणाम। मैं रोहित एक बार फिर हाज़िर हूं चूत लंड के भयंकर घमासान में। मैं 26 का लौंडा हूं।मेरा मस्त हथियार 7 इंच का है जो जो किसी भी चूत और भोसड़े की आंतरिक कंदराओं में समाकर उसकी जड़ें उखाड़ सकता है। मेरा लन्ड जिस चूत में एकबार घुस जाता है तो फिर उसकी चीखे निकलना तो पक्का है।चाहे वो कितनी भी बड़ी चुदक्कड़ क्यो नही हो।

ये कहानी मेरी क्लास 12 की है जब मै लगभग 19 साल का था। उस समय मै कल्पना और महक मैडम को बजा चुका था लेकिन अब उन्हें बजाने का मौका नहीं मिल रहा था।फिर हमने प्लान बनाकर प्रिंसिपल मैडम को मेरे लन्ड के नीचे ला दिया था। अब मेरे लिए स्कूल में चुदाई का फूल जुगाड हो चुका था। अब ये बात मैंने महक और कल्पना मैडम को बताई तो वो बहुत ज्यादा खुश हुई। मैं आज प्रिंसिपल मैडम की गांड मारना चाहता था लेकिन मेरा लन्ड महक मैडम के लिए बहुत दिनों से तड़प रहा था। अब मैंने महक मैडम को कल चुदाने के लिए कह दिया। महक मैडम तो पहले से ही तैयार थी उन्होंने झट से हां कर दी।

महक मैडम हमारे स्कूल की सबसे ज्यादा हॉट सेक्सी मैडम थी।उनको देख देखकर सभी लड़के और टीचर्स लंड हिलाए बिना नहीं रह पाते है।
महक मेडम लगभग 32 साल की थी। उन पर उस वक्त जवानी ने भरपूर नशा चढ़ा रखा था। मैडम के बूब्स लगभग 32 साइज के थे।मैडम के बूब्स के नज़ारे कई बार लडको का पानी निकाल देता था।मैंने भी कई बार उनको देख देखकर लंड का पानी निकाल लिया था। मैडम की चिकनी कमर 30 साइज की है और मैडम की गांड 32 साइज है जो एकदम कड़क, सुढ़ोल और गजब की कसावट लिए हुए है।
मैंने पिछली बार हॉल में चुदाई के दौरान महक मैडम की गांड मारने की कोशिश की थी लेकिन प्रिंसिपल मैडम के आने की आहट से मै महक मैडम की गांड में लंड नहीं घुसा पाया था। अब अधूरी तमन्ना को पूरी करने की बारी थी।

अब मैं सुबह स्कूल पहुंच गया।आज महक मैडम पूरी सज धज कर स्कूल आई थी।आज उन्होंने बैगनी रंग की साड़ी पहन रखी थी जिस पर फूल ओपन बेक ब्लाउज कहर ढा रहा था। महक मैडम को देखकर मेरे लन्ड ने करंट मारा। आज कल्पना मैडम भी बड़ी खुश नजर आ रही थी। अब मैं मैडम की गांड मारने की खुशी में लंड को क्लास में बैठा हुआ मसल रहा था।मेरे लिए एक एक पल निकालना भारी पड़ रहा था।
अब लास्ट पीरियड में महक मैडम हमारी क्लास में आई।उनकी हॉट सेक्सी अदा देखकर मेरे लन्ड ने उनको सलामी ठोकी। फिर महक मैडम हमें पढ़ाने लगी। अब मेरा पूरा ध्यान महक मैडम की हॉट सेक्सी बॉडी पर थे।उनकी सेक्सी अदाएं मेरे लन्ड पर कहर बनकर टूट रही थी। मैं छुट्टी होने का इंतजार करने लगा।
खैर कुछ देर बाद स्कूल की छुट्टी हुई और सभी स्टूडेंट्स के निकलते ही मै महक मैडम पर टूट पड़ा और लपालप उनके रसीले होंठों को चूस डाला।फिर उनकी चिकनी चूत को सहलाने लग गया। फिर मैंने महक मैडम को अच्छी तरह से चूस कर  छोड़ा।

मैडम– अभी थोड़ी देर रुक।पहले पूरा सेटअप जमाने से।
मैं– अरे यार जम गया सेटअप।
मैडम– बस थोड़ी देर रुक जा।तू पहले नीचे जाकर कल्पना मैडम की क्लास में बैठ जा।फिर मैं तरीके से तुझे बुला लूंगी।ताकि किसी को कोई शक भी नहीं होगा।
मैं– अरे यार।आपकी अब भी गांड़ फट रही है।
मैडम– पहले  तू ये काम कर, जा।
फिर मैं लंड लटकाकर कल्पना मैडम की एक्स्ट्रा क्लास में जा बैठा।मेरा लन्ड फन फैलाकर पेंट में उथल पुथल मचा रहा था। थोड़ी देर बाद महक मैडम कल्पना मैडम की क्लास में आई।
महक मैडम–कल्पना मैडम रोहित को प्रिंसिपल मेम बुला रही है।
अब मैं उठकर महक मैडम के साथ प्रिंसिपल मेम के पास ऑफिस में पहुंच गया।मेम वर्क कर रही थी।
मैं– मेम,मै हॉल में महक मैडम की क्लास लेने जा रहा हूं।
प्रिंसिपल मेम– हूं।

अब मैं महक मैडम का कोमल हाथ पकड़कर उन्हें ऊपर हॉल में लेे गया।हॉल में पहुंचते ही मैंने तुरंत हॉल का मेन गेट बंद कर दिया और  भूखे कुत्ते की तरह महक मैडम पर टूट पड़ा।मै जल्दी जल्दी मैडम के होंठो को खाने लगा।महक मैडम भी मेरे होंठो को चूसने लगी। दोनो के जिस्म में चुदाई की भयंकर आग जल रही थी। पूरे हॉल में आऊ ऊंह आह ओह पुच्छ पुच्छ पुच्छ की आवाज़ गूंज उठी।आज हम बिना किसी डर के जीस्मो की प्यास बुझाने में लगे हुए थे।तभी मेरे होंठ महक मैडम के सेक्सी होंठो को रगड़ने लगे। अब मैं मैडम को सरकाता हुआ दीवार के सहारे लेे गया।फिर दीवार के सहारे उनके जिस्म को टिकाकर अच्छी तरह से मैडम के बूब्स को दबाने लगा।
मैडम– ऊंह आह ओह ऊंह ओह रोहित।और ज़ोर से दबा ना।
मैं– ओह बहिन की लौड़ी आज तो तेरे बूब्स को पूरा निचोड़ डालूंगा।
मैडम– ओह तो कुत्ते साले निचोड़ दे ना।इंतजार क्यों कर रहा है।
मैं– हां साली रण्डी।देख अब मेरा कमाल।

मैडम– दिखा साले, भेन के लौड़े।
तभी मै मैडम के बूब्स को जोर जोर से मसलने लगा।मैडम की साड़ी का पल्लू कब का ही नीचे गिर पड़ा था। मेडम दीवार से सटकर ज़ोर ज़ोर से सिसकारियां भरने लगी।आज मुझे मैडम के शानदार बूब्स को दबाने में बहुत ज्यादा मज़ा आ रहा था।
मैडम– आह आह ओह आह ऊंह ओह कमिने और अच्छे से दबा ना।तेरे हाथो में ज़ोर नहीं है क्या!
मैं– साली, मादरचोद कहीं की।आज तो तेरे बूब्स को तेरे जिस्म से उखाड़ कर फेंक दूंगा।
मैडम– तो उखाड़ दे साले कुत्ते।आह आह ओह।
तभी मैंने मेडम के ब्लाऊज में अंदर हाथ डाल दिया और उनके बूब्स को अच्छी तरह से मसलने लगा।इधर मेरा लन्ड मैडम की चूत मांगने लग गया था।तभी मै नीचे बैठ गया और मेडम के रेशम जैसे पेट को चूमने और चाटने लगा।मैडम मदहोश होने लगी।वो मेरे सिर को ज़ोर से पेट पर दबाने लगी।
मैडम– आह आह ऊंह,ओह,ओह साले मैडम चोद कहीं के क्यो मुझे इतना तड़पा रहा है। डाल दे ना जल्दी से मेरी चूत में।
मैं लगातार मैडम के गौरे चिकने पेट को चाट रहा था।कुछ ही देर में मैंने मैडम के पेट को गीला कर डाला। अब मैं वापस खड़ा हो गया और अब मैडम के गले पर किस करते हुए मैडम के पेटीकोट में हाथ डालकर उनकी चिकनी चूत को सहलाने लगा।मैडम पागल हो उठी।उन्होने मुझे बाहों में कस लिया।

मैडम– आह आह ऊंह ओह आह ओह हरामजादे ,कुत्ते की औलाद जल्दी से मेरी चूत में डाल दे।
मैं मैडम के गले को चूम चूमकर मैडम को तड़पा रहा था। मैडम की चूत धीरे धीरे गीली होती जा रही थी।मेरी उंगलियां मैडम की जान निकाल रही थी।
मैडम– ओह साले कुत्ते क्यो मेरी चूत को इतना तड़पा रहा है।आह आह आईईं बहुत दर्द हो रहा है।
कुछ देर तक मैडम का इस तरह से मज़ा लेने के बाद मैंने मेडम को पलट दिया जिससे मैडम की सेक्सी गांड़ मेरे लन्ड के सामने आ गई।तभी मैंने मेडम को पीछे से दबोच लिया और आगे से उनके बूब्स को मसलते हुए पीछे से मैडम के लंबे लंबे बालों को हटाकर उनकी गर्दन को चूमने लगा।मैडम पागल होकर सिसकारियां भरने लगी।
मैडम– ओह आह ओह ऊंह ऊंह ऊंह आह ओह। इतना मत तड़पा ना भेन्न के लंड।
मैं– ओह आह ओह साली हरामजादी।आज तो पहले तुझे पूरा पिघलाकर तेरी गांड़ फाड़ूंगा।
मैडम– ओह साले कुत्ते तू आज तेरी मैडम की जान ही निकालेगा।
मैं– हां साली रण्डी।