लड़के ने अपनी बन्दी को घर बुला के चोदा

Ladke ne bandi ko ghar buka k choda

लड़के ने अपनी बन्दी को घर बुला के चोदा
Ladke ne bandi ko ghar buka k choda

हवस की भूक के आगे अच्छे अच्छे लोग झुक जाते है और लड़की को झुका देते है। आज हम आये है ऐसी ही एक दिलचस्प कहानी के साथ। बात है जयपुर के एक घर की जहाँ एक अमित नाम का लड़का रहता था। उसने कभी भी अपने लन्ड को हिला के स्पर्म को नही निकाला था इसीलिए उसका शरीर मज़बूत और कढोर था। वही उसकी एक लड़की से बात चीत थी जो उसके घर के सामने वाले घर मे रहती थी। वो दोनों रोज़ देर रात तक बात करते थे और एक दूसरे से काफी बाते सांझा करते थे। एक बार की बात है जब सुमित घर में अकेला था और वो लड़की जिसका नाम सविता था वो भी घर पर अकेली थी। 

दोनो ही एक दूसरे से बात कर रहे थे तभी सुमित ने उसे अपने घर पर बुला लिया। कविता ने उसके घर आने में बिल्कुल भी देर नही लगाई और कुछ ही देर में उसके घर पर आ गई। दोनो ने ही एक दूसरे के साथ हर हद से गुजरने का सोच लिया था और वो सब करने को तैयार थे जो शादी के बाद एक शादीशुदा जोड़ा अपनी सुहागरात में करता है। सुमित ने अपने एक दोस्त को कॉल मिला कर कंडोम मंगा लिया और फिर कविता को काफी देर तक होठो पर चूमा। दोनो ही हवस के भूक में मदहोश थे। कविता ने ऐसा कुछ पहले कभी नही किया था और सुमित ने भी किसी भी लड़की को पहले नही चोदा था। 

दोनो ही एक दूसरे के साथ सेक्स करने को तैयार थे और बार बार होठो पर चुम के उस पल का पूरा फायदा उठा रहे थे। सुमित ने धीरे से कविता के कपड़े उतारने शुरू कर दिए और कविता भी सुमित का पूरा साथ देने लगी। जब सुमित ने कविता को पूरी तरह से नंगा कर दिया तब उसने अपने लंबे और गरम लन्ड को बाहर निकाला और कविता के नंगे और लुभावने जिस्म से चिपक गया। दोनो ने एक दूसरे को कस के गले लगाया और चूमा। सुमित ने कविता को पलंग पर लेटाया और उसके ऊपर चढ़ कर उसके चुच्चे दबाये और अपने मुह से अच्छे से चूसे।

कविता पूरी तरह से सुमित को अपने मुलायम और सेक्सी जिस्म से न्योता दे रही थी और सुमित भी बार बार उसके जिस्म को चूम कर उसकी खूबसूरती को महसूस कर रहा था। धीरे से सुमित ने कविता की गीली चुत में अपना लंबा और खड़ा लन्ड डाल दिया। कविता को बुहत दर्द हुआ मगर वो एहसास उसके लिए नया और बुहत ही मज़ेदार था। कविता ने सारा दर्द खुशी खुशी सह लिया और सुमित के साथ सेक्स करने में इतनी मदहोश हो गयी कि वो भूल ही गयी कि उसे घर वापिस भी जाना है। सुमित ने कविता को चालीस मिनेट तक चोदा और उसे पागल कर दिया। 

सुमित ने कवीता को अपना लन्ड काफी देर तक चुसाया और पूरी तरह से कविता से मज़े लिए। कविता को अच्छे से चोदने के बाद सुमित ने कविता की चाल पूरी तरह से बदल दी थी और उसकी चुत बुहत ढीली हो गई थी। सुमित ने कविता को मन भर के चोदा और पूरी तरह से अपनी हवस की भूक मिटाई। सुमित ओर कविता उसके बाद भी बुहत बार ऐसे संबंध बनाते रहे और एक दूसरे की हवस की भूक मिटाते रहे। दोनो ही एक दूसरे के लिए बस एक ज़रिया थे जो तब काम आते थे जब दोनों में से किसी को भी सेक्स करने का मन होता था। 

कविता और सुमित दोनो ने ही हमे एक बुहत ही मज़ेदार कहानी दी। हम रोज़ ही ऐसे नई और ताज़ा कहानिया लाते रहते है। अगर आप चाहते हो रोज़ अपनी रात को रंगीन बनाना तो हमारी वेबसाइट से जुड़े रहिये और बुहत ही सेक्सी और नॉटी कहानिया पढ़ते रहिये।